Puja का टाइम कब और कितने बजे शुरू करनी चाहिए ?

पूजा करने का सही समय क्या है

सुबह कितने बजे उठकर पूजा करनी चाहिए?

Bhagavaan ki pooja karane ka sabase achchha samay 

ब्रह्म मुहूर्त यानी भगवान ब्रह्मा का समय होता है। समय सूर्योदय से डेढ़ घंटे पहले का है, ठीक सुबह साढ़े तीन बजे से साढ़े पांच बजे तक।

ब्रह्म मुहूर्त में उठने से सौंदर्य, बल, ज्ञान, बुद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है, आयुर्वेद के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त को सात्विक काल (अच्छाई की अवधि) माना जाता है, तो इस अवधि में हमारा मन पवित्रता की स्थिति में होता है और यह वातावरण से जुड़ा होता है।

हमारा मन रागदेश, अन्य तामसिक और राजसिक गुणों से मुक्त है इसलिए खाली मन को ढालना बहुत आसान हो जाता है, एक अच्छी रात की नींद के बाद हमारा मन तरोताजा, शांत और निर्मल होता है, मन एक कोरे कागज की तरह है जो किसी भी सांसारिक छापों और तनावों से मुक्त है।

ब्राह्मी मुहूर्तम् उत्ति शते स्वस्थो रक्षार्थम् आयुष:

तत्र सर्वार्थ शांत्यार्थं स्मेरेचा मधुसूदनम्

(संदर्भ: अष्टांग हृदयम)

पंक्ति का अनुवाद इस प्रकार है: 'पूर्ण स्वास्थ्य बनाए रखने और लंबे जीवन काल को प्राप्त करने के लिए ब्रह्म मुहूर्त में जागना चाहिए, जैसा कि वांछित है।

सुबह पूजा करने के फायदे - Subah puja karne ke fayde

सुबह उठकर Puja करने के कई सारे फायदे है, शांत वातावरण, और स्थिर मन से पूजा करने से भगवान प्रश्न होते है, और पुरे दिन भर की उर्जा शरीर में बनी रहती है, और शरीर उर्जावान रहता है जिससे हमें किसी भी काम को करने में मन लगता है. और हमारे कार्य पूर्ण और सफल भी होते है.


Puja का टाइम कब और कितने बजे शुरू करनी चाहिए ? 5 of 5





0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने