Download 'Samveda' PDF in Sanskrit & Hindi, डाऊनलोड सामवेद संस्कृत और हिंदी में,

Also Read


'सामवेद' चार वेदों में से तीसरा वेद है, यह चारों वेदों में सबसे छोटा है। यह ऋग्वेद से निकटता से जुड़ा हुआ है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सामवेद की संहिता एक स्वतंत्र संहिता है, फिर भी ऋग्वेद की संहिता से कई छंदों को लिया गया है। ये छंद मुख्य रूप से ऋग्वेद के आठवें और नौवें मंडल से लिए गए हैं। सामवेद को अनुष्ठान के लिए विशेष रूप से संकलित किया गया है, इसके छंदों का अर्थ है सोमा-यज्ञ और उससे प्राप्त होने वाली प्रक्रियाओं के अनुष्ठानों में जप करना।

1824 मंत्रों के इस वेद में 75 मंत्रों को छोड़कर शेष सब मंत्र ऋग्वेद से ही लिए गए हैं।इसमें सविता, अग्नि और इंद्र देवताओं के बारे में जिक्र मिलता है। इसमें मुख्य रूप से 3 शाखाएं हैं, 75 ऋचाएं हैं।






नया पेज पुराने