[PDF] : हनुमान बाहुक स्तोत्र का पाठ हिंदी पीडीऍफ़ अर्थ सहित | hanuman bahuk book path pdf gita press

Hanuman Bahuk path


hanuman bahuk book path pdf gita press download with hindi bhavarth

हनुमान बाहुक स्तोत्र का पाठ हिंदी अर्थ सहित पीडीऍफ़ डाउनलोड

हनुमान बाहुक का ये चमत्कारी पाठ सभी प्रकार के शारीरिक कष्टों से मुक्ति देता है, मान्यता है कि समस्त संसार में जब-जब हनुमान चालीसा, सुंदरकांड, रामचरित मानस, रामायण, आदि का पाठ किया जाता है तो हनुमान जी वहां जरूर मौजूद होते हैं। वे किसी ना किसी वेश में भक्तों के बीच उपस्थित होते हैं। लेकिन उन्हें पहचानने के लिए गहरी भक्ति भावना की आवश्यकता होती है। और जो उन्हें पहचान ले उसका जीवन हनुमान जी सफल बना देते हैं।

हनुमान बाहुक के लाभ, hanumaan baahuk ke laabh

हनुमान बाहुक का पाठ रोग व कष्ट दूर करता है, साथ ही किसी भी प्रकार की आधि–व्याधि जेसी पीड़ा, भूत, प्रेत, पिशाच, तथा शत्रु द्वारा किये हुए दुष्टअभिचार कर्म, षड्यंत्र  से रक्षा करता है।

हनुमानजी का पूजन और हनुमान बाहुक के पाठ का अनुष्ठान 40 दिन तक करने से अभीष्ट फल की सिद्धि अथवा रोग, कष्ट इत्यादि का निवारण हो जाता है।

हनुमान बाहुक पाठ करने की विधि, hanumaan baahuk ki vidhi

हनुमान बाहुक का पाठ करने के लिए आपको ब्रह्म मुहूर्त में उठकर दैनिक कार्य से निवृत्त होकर, स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लेना है। उसके बाद आसन लगाकर व सामने हनुमान जी की मूर्ति या चित्र को रख कर अपनी मनोकामना बोलते हुए संकल्प लेना है। 

प्रसाद में आप गुड़ व चना, फल, मेंवे बेसन या मोतीचूर के लड्डू रख सकते हैं। यह पाठ आपको लगातार 41 दिनों तक करना है।  याद रहे  हनुमान बाहुक के पाठ के दौरान आपको ब्रम्हचर्य का पालन करना है और मांस मदिरा का सेवन नहीं करना हैं।

File Name: हनुमान बाहुक स्तोत्र का पाठ Uploaded By: Voice of HinduismFile Size: 3.07MB

[PDF] : हनुमान बाहुक स्तोत्र का पाठ हिंदी पीडीऍफ़ अर्थ सहित | hanuman bahuk book path pdf gita press 5 of 5





0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने