ॐ जय शिव ओंकारा शिव जी की आरती | Om Jai Shiv omkara bhagwan shiv ji ki aarti

Also Read


शिव आरती, shiv aarti, shivji ki aarti, om jai shiv omkara, shankar ji ki aarti, bholenath ki aarti, shankar bhagwan ki aarti, bhole baba ki aarti, jai shiv omkara, bhole ki aarti, om jai shiv omkara aarti, bhole shankar ki aarti, shiv shankar ki aarti, bhole ji ki aarti, jai shiv omkara aarti, shiva aarti, shiv ji aarti, shiv aarti in hindi, mahadev ki aarti, shankar aarti, shiv chalisa aarti, om shiv omkara, shankar bhagwan ni aarti, bhagwan shiv ki aarti, shiv bhole ki aarti, mahadev ji ki aarti, aarti bhole baba ki, om jai shiv omkara aarti in hindi, bholenath ji ki aarti, aarti shankar bhagwan ki, shiv shankar aarti, shiv shankar ji ki aarti, shiv aarti pdf, 


भगवान शिव की आरती  


ॐ जय शिव ओंकारा,भोले हर शिव ओंकारा।
ब्रह्मा विष्णु सदा शिव अर्द्धांगी धारा ॥ 

एकानन चतुरानन पंचानन राजे।
हंसानन गरुड़ासन वृषवाहन साजे ॥ 

दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहे।
तीनों रूपनिरखता त्रिभुवन जन मोहे ॥ 

अक्षमाला बनमाला मुण्डमाला धारी।
चंदन मृगमद सोहै भोले शशिधारी ॥ 



श्वेताम्बर पीताम्बर बाघम्बर अंगे।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥ 

कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूल धर्ता।
जगकर्ता जगभर्ता जगपालन करता ॥ 

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका।
प्रणवाक्षर के मध्ये ये तीनों एका ॥ 

काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रह्मचारी।
नित उठि दर्शन पावत रुचि रुचि भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ 



लक्ष्मी व सावित्री, पार्वती संगा ।
पार्वती अर्धांगनी, शिवलहरी गंगा ।। 

पर्वत सौहे पार्वती, शंकर कैलासा।
भांग धतूर का भोजन, भस्मी में वासा ।। 

जटा में गंगा बहत है, गल मुंडल माला।
शेष नाग लिपटावत, ओढ़त मृगछाला ।। 

त्रिगुण शिवजीकी आरती जो कोई नर गावे।
कहत शिवानन्द स्वामी मनवांछित फल पावे ॥ 

ॐ जय शिव ओंकारा भोले हर शिव ओंकारा★★




0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने