राम मंदिर तोड़कर फिर बनाएंगे बाबरी मस्जिद : मौलाना साजिद रशीदी पर FIR दर्ज

Also Read


ऑल इंडिया इमाम एसोसिएशन के प्रेसिडेंट मौलाना साजिद रशीदी ने विवादित बयान दिया है, जिसके चलते विवाद खडा हो गया, मौलाना रशीदी ने कहा कि - इस्लाम के अनुसार मस्जिद बनने के बाद मस्जिद ही रहती है, इसे कुछ बनने के तोड़ा नहीं जा सकता ।



हमें विश्वास है ये मस्जिद ही रहेगी ! मस्जिद को मंदिर को तोड़कर नहीं बनाया गया था, और हो सकता है मंदिर को तोड़कर फिर से मंदिर बनाया जाएगा ।



आपको बता दे, राम मंदिर को मुगल आक्रांता बाबर ने तोड़कर बाबरी मस्जिद का निर्माण कराया था , जिसके बाद से ये विवाद का हिस्सा बना हुआ था, 16वीं सदी की बाबरी मस्जिद थी जिसे कार सेवकों ने छह दिसंबर, 1992 को गिरा दिया था. विवादित स्थल गिराए जाने की घटना के बाद देश में सांप्रदायिक दंगे भड़क गए थे. 


सुप्रीम कोर्ट से पहले इस मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 2010 में अपना फैसला सुनाया था. हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी.  30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अयोध्या के विवादित स्थल को राम जन्मभूमि करार दिया था. हाई कोर्ट ने 2.77 एकड़ जमीन का बंटवारा कर दिया गया था. कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्माही अखाड़ा और रामलला के बीच जमीन बराबर बांटने का आदेश दिया था।


केस से जुड़ी तीनों पार्टियां निर्मोही अखाड़ा, सुन्नी वक्फ बोर्ड और रामलला विराजमान ने यह फैसला मानने से इनकार कर दिया था. हाई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 14 अपील दायर की गई. यह मामला पिछले नौ वर्षों से सुप्रीम कोर्ट में लंबित था।

इस मामले की 6 अगस्त से सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई शुरू हुई जो 16 अक्टूबर को खत्म हुई. सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पांच जजों की बेंच ने फैसला सुरक्षित रख लिया था.




0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने