हाथ चूमकर 'इलाज' करने वाले मौलाना की कोरोना से मौत, इलाज कराने वाले 29 मरीज पॉजिटिव

Also Read


झाड़फूंक, टोना-टोटका और अंधविश्वास के सहारे धर्म-कर्म से भोले-भाले लोगों की बीमारी और समस्याएं दूर करने वाले मौलवी साहब आपको बीमारी भी परोस सकते हैं. एमपी के रतलाम में ऐसा हुआ भी है जब एक संक्रमित मौलवी ने अपने भक्तों को भी कोरोना बांट दिया.



ऐसे ही एक असलम नाम के मौलाना की 4 जून को कोरोना के कारण मौत हुई. प्रशासन ने इस मौलाना के कॉन्टेक्ट तलाश कर लोगों को क्वारनटीन किया. जब इन सबके सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे तो शहर में कोरोना विस्फोट हो गया. इस मौलाना ने अपने मरने से पहले 29 लोगों को कोरोना बीमारी बांट दी।



TV चैनल आजतक के अनुसार नयापुरा के एक मौलाना की कोरोना संक्रमण से मौत हुई थी. उस मौलाना के संपर्क वाले लोगों का पता लगाकर क्वारनटीन किया गया है. जब सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए तो नयापुरा के इस मौलाना के संपर्क वाले 29 लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. ऐसे ओर भी मौलानाओ को पकड़कर क्वारनटीन किया गया. सभी को सभी सुविधाएं दी जा रही है और उनके सैंपल लिए गए है. जांच रिपोर्ट का इंतजार है.

रतलाम के नयापुरा का यह मौलाना झाड़फूंक करता था और ताबीज देता था. लोग बड़ी संख्या में इसके पास जाते थे और यह कभी-कभी लोगों के हाथ भी चूमता था.

क्वारनटीन सेंटर में इन मौलानाओ की शिकायत है कि उन्हें यहां कोई सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं. इनकी कोई जांच भी नहीं की गई है. इन मौलानाओ का कहना है अभी वो कोरोना महामारी के कारण सब काम बंद कर चुके थे. हमें पकड़कर यहां लाकर बंद कर दिया गया.




नया पेज पुराने