चर्च में 'प्रार्थना सभा' आयोजित करने पर पादरी गिरफ्तार, भीड़ इकठ्ठा करने का आरोप

Also Read


कोरोना प्रकोप के बीच केरल के चलकुडी में नित्य सहाय चर्च के पादरी को भीड़ इकट्ठा करने  के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. आपको बता दें कि केरल में पुलिस ने निर्देशों के बावजूद लोगों को प्रार्थना करने और परिसर में जमा देने के आरोप में तीन पूजा स्थलों के प्रबंधकों के खिलाफ शनिवार को भी मामला दर्ज किया गया था. पुलिस ने बताया कि मंदिर, मस्जिद और गिरिजाघर के प्रबंधकों के खिलाफ ये मामले दर्ज किए गए हैं. पुलिस ने बताया कि इडुकी जिले स्थित वल्लियानकावू मंदिर के प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. 


जिला प्रशासन ने इससे पहले मंदिर में नियमित पूजा के दौरान परिसर में भीड़ एकत्र होने देने पर नोटिस जारी किया था. कासरगोड जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिले में चेतावनी के बावजूद नमाज पढ़वाई. इस बीच, त्रिशूर पुलिस ने जिले को ओल्लुर स्थित सेंट एंथनी गिरिजाघर के पादरी के खिलाफ मामला दर्ज किया है. 

पुलिस ने बताया, 'भीड़ एकत्र नहीं हो यह सुनिश्चित करने के लिए हमने कोई प्रार्थना सभा आयोजित नहीं करने का सख्त निर्देश दिया था. अब हमने निश्चित आदेश के बावजूद भीड़ एकत्र करने पर गिरिजाघर के पादरी और अन्य पदाधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.' उल्लेखनीय है कि केरल कैथोलिक बिशप परिषद ने केंद्र और राज्य सरकार के निर्देशों के अनुरूप कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए उसके अंतर्गत आने वाले गिरिजाघरों में प्रार्थना सभा बंद करने का फैसला किया था.  इस बीच राज्य में मंदिरों का प्रबंधन देखने वाले त्रावणकोर देवस्वम बोर्ड (टीडीबी) ने कोरोना वायरस के चलते शनिवार को दिशानिर्देश जारी किए.  टीडीबी ने मंदिर कर्मियों को मास्क और दस्ताने मुहैया कराने और दर्शन की अवधि सीमित करने का फैसला किया. 


बोर्ड के वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया, 'मंदिर में नियमित अनुष्ठान और पूजा जारी रहेगी। अगले आदेश तक मंदिर उत्सव में हाथियों का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा और मंदिर केवल सुबह छह बजे से 10 बजे तक और शाम को साढ़े पांच बजे से साढ़े सात बजे तक ही खुले रहेंगे.'अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे से पहले बोर्ड के सभागारों को बुकिंग कराने वालों को राशि लौटा दी जाएगी. 

सोमवार को ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को लोगों से लॉकडाउन का गंभीरता से पालन करने की अपील करते हुए राज्य सरकारों से कहा कि वे नियमों और कानूनों का पालन कराना सुनिश्चित करें.  मोदी ने ट्वीट किया, 'लॉकडाउन को अब भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें.'




नया पेज पुराने