UP में दंगाइयों की मौत पर आंसू बहाने वाली प्रियंका राजस्थान में 77 बच्चों की मौत पर चुप क्यों है

Also Read




राजस्थान के कोटा के जेके लोन अस्पताल में बीते एक महीने में 77 बच्चों की मौत के मामले ने तूल पकड़ लिया है। लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला भी इस पर चिंता व्यक्त कर चुके हैं। भारतीय जनता पार्टी ने भी गहलोत सरकार पर जमकर निशाना साधा है। बच्चों की मौत पर सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शर्मनाक बयान दिया है, उन्होंने कहा कि अन्य वर्षों के मुकाबले इस साल बच्चों की कम मौतें हुई हैं, ये कोई नई बात नहीं है।



लोकसभा स्पीकर ने कोटा-बूंदी के जेकेलोन मातृ एवं शिशु चिकित्सालय एवं न्यू मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया और कहा कि 48 घंटे में 10 नवजात शिशुओं की असमय मृत्यु दुखद व पीड़ादायक है।

उन्होंने कहा कि चिकित्सकीय उपकरणों व संसाधनों की कमी के कारण किसी भी शिशु की असमय मौत होना चिंताजनक है। चिकित्सकों की सलाह के अनुसार जनसहयोग से अगले 15 दिन में आवश्यक जीवन रक्षक उपकरणों व संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी।


उन्होंने आगे कहा कि कोटा बूंदी संसदीय क्षेत्र के सबसे बड़े चिकित्सालय में 24 दिनों में 77 नवजात शिशुओं की असमय मृत्यु होना गंभीर चिंता का विषय है, राज्य सरकार संवेदनशीलता के साथ कार्य करे जिससे भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो। इस मुद्द्दे पर कांग्रेस को अब जमकर घेरा जा रहा है। सीएम ही नहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को भी घेरा जा रहा है। कहा जा रहा है कि लखनऊ में दंगाइयों की मौत पर आंसू बहाने पहुँची प्रियंका वाड्रा राजस्थान में 77 बच्चों की मौत पर समाधि पर कब बैठेंगी।

मालूम हो की नागरिकता संसोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश में हिंसक प्रदर्शन करते हुए मारे गए एक-एक दंगाइयों के घर प्रियंका गांधी जाकर उनके परिवार से मुलाक़ात कर रही हैं और उन्हें शहीद का दर्जा देने के मांग कर रही हैं, लेकिन कांग्रेस शाषित राजस्थान में महज एक महीने के भीतर 77 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई, उसपर प्रियंका गांधी ने न तो अबतक कोई ट्वीट किया न राजस्थान जाने की जहमत उठाई?


बता दें कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है इसलिए प्रियंका ने 77 बच्चों की मौत पर एक भी ट्वीट नहीं किये न ही राहुल गांधी ने। 2017 में उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बाबा बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में भी बच्चों की मौत हुई थी। उस समय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उस समय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश के एक अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के चलते 30 बच्चों की मौत पर गहरा दुख प्रकट किया था। राहुल गांधी ने कहा था कि भाजपा की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश सरकार इस त्रासदी के लिए जिम्मेदार है।




0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने